घर आई सिया लक्ष…मण राम अवध म आनन्द भयो

Embed Code (recommended way)
Embed Code (Iframe alternative)
Please login or signup to use this feature.

घर आई सिया लक्ष्मण राम अवध में आनन्द भयो
सूर्या गाय को गोबर बुलई न राई आंगण लिपाया
राज मोतियन का चोक पुराया
राम कंचन कळष भरायो
पहली भेट भरत से लीजो दूसरी सीता माय
तीजी भेट अवधपूरी नगरी
राम चौथी भेट कोशल्या माय
माता कोशल्या पूछण लागी कहों लंका की बात
कहों लंकागड़ कैसे तोड़ी
राम कसी हो लाया सीता नार
आठ घाट तो लक्ष्मण रोक्या दस घाट भगवान
एक घाट अंगत न रोक्या
राम कूद गया हो हनुमान
लंका जीत कर राम घर आये घर घर होय बधाई
तुलसीदास यो रघुवर की
हरक हरक गुण गाय

Licence : All Rights Reserved


X