Experience YourListen.com completely ad free for only $1.99 a month. Upgrade your account today!

India Tv Refuses To Give Audio File Afte…r defaming a person

Embed Code (recommended way)
Embed Code (Iframe alternative)
Please login or signup to use this feature.

मैं सबको यह सूचित करना चाहता हूँ कि कल 27/5/2017 को इंडिया टीवी पर आठ बजे आये कार्यक्रम में मेरी फोन की बात को तोड़-मरोड़ कर दिखाया गया। मेरी बात सात मिनट और पच्चीस सैकेंड (07:25 मिनट) तक हुई पर उसे कांट-छांट करके मेरे तीन-चार वाक्यों को तोड़-मरोड़ कर दिखा दिया गया। यह बात इस विषय पर थी कि 26/5/2017 को दिल्ली से प्रकाशित नवभारत टाईम्स के पंद्रह (15) नंबर पृष्ठ पर मेरे बारे में यह झूठी खबर, मनीष श्रीवास्तव नामक रिपोर्टर ने, प्रकाशित की कि भीम आर्मी के लिए चन्दा मेरे बैंक एकाउंट में आता है। मेरे ऊपर लगाए दोष को सिद्ध करने के लिए उसने गैर-कानूनी तरीके से मेरे बैंक एकाउंट के सारे विवरण और मेरा मोबाईल नंबर भी छाप दिया। मैंने उसी दिन मनीष श्रीवास्तव को ईमेल किया पर उसका आज तक कोई रिप्लाई नहीं आया। मैंने उसे आज भी एक मेल किया है और पूछा है कि उसने मेरे मेल का रिप्लाई क्यों नहीं दिया ? 26/5/2017 को ही मैंने नवभारत टाईम्स के कस्टमर केयर नंबर पर फोन किया और उन्होंने मुझे दिल्ली के ऑफिस का नंबर दिया। मैं दो दिनों तक दिल्ली के ऑफिस में फोन करता रहा पर वह नंबर व्यस्त ही रहा। मैंने इस बारे में अपने सगे-सम्बन्धियों और मित्रों को जानकारी दे दी। कल इंडिया टीवी से अमित नामक व्यक्ति का फोन आया। मैंने उससे लम्बी बातचीत में यह स्पष्ट बता दिया कि मैं भीम आर्मी से नहीं जुड़ा। पर वो बार-बार जबरदस्ती ऐसे सवाल पूछ कर मुझे तंग कर रहा था जैसे कि जबरदस्ती मुझे भीम आर्मी से जोड़ना चाहता हो। मैंने उसे स्पष्ट कर दिया था कि मेरे बैंक एकाउंड तो कई वर्षों से सार्वजानिक हैं पर वह केवल डॉ. भीमराव आंबेडकर जी की पुस्तकों और टीशर्टों की बिक्री के लिए है जैसे कि किसी और व्यापारी के होते हैं। रही बात चंदे की तो यह अपील तो भीम आर्मी के बनाने से भी पहले की है और यह अपील बौद्ध धम्म और बाबा साहिब डॉ. भीम राव आंबेडकर जी के विचारों पर वीडियों के निर्माण के लिए चन्दा लेने की है, क्योंकि मैं स्वयं एक फिल्म निर्माता हूँ , न कि भीम आर्मी के लिए। इसलिए मैंने उसे बताया कि मैं यह पुस्तकों का कार्य करता हूँ। पर उसने अपने छोटे से कार्यक्रम में कांट-छांट करके यह दिखा दिया की मैंने माना कि मैं चन्दा लेता हूँ, और यह कि मैं इस पर काम करता हूँ। किस लिए चंदे की अपील की यह नहीं बताया ? क्या काम करता हूँ यह भी नहीं बताया। हाँ उसने यह भी बताया की मैं किसी संगठन के साथ नहीं जुड़ा। पर उसने इस प्रकार बताया जैसे मानो कि शक की सुई मेरी और घूमे। मेरे मन में कोई चोर नहीं था इसलिए मैंने उसकी कोई रिकॉर्डिंग नहीं की। मेरे परिवार को इस पर बहुत दुःख हुआ। इस पर आज मैंने उसी नंबर पर फोन करा। फोन अभिषेक नामक व्यक्ति ने उठाया और उसने बताया कि अमित ने फोन किया था। मैंने उससे अपनी बातचीत की ऑडियों फाइल (फोन रिकार्डिंग वाली) मांगी और मेरे ईमेल पर भेजने को कहा। इस पर वो मुझे बेवकूफ बनाने लगा कि कैमरा रख कर रिकार्ड हुआ था जो कि उतना ही है जितना वीडियों में दिखा है। मैंने आगे उसे यह कहा कि मैं फिल्म डायरेक्टर हूँ ताकि वह यह समझ जाए कि मुझे बेवकूफ बनाने की कोशिश न करे क्योंकि जो काम वह कर रहा है मैं उसकी रग-रग से वाकिफ हूँ। इस पर वह बौखला गया और उसने मुझसे बदतमीजी से कहा कि वो ऑडियों फाइल नहीं देगा चाहे प्रधानमंत्री आ कर मांग ले। इससे आगे मैं उससे फिर से ऑडियो फाइल मांग रहा था पर उसने फोन काट दिया। मैं उस बात की ऑडियों रिकार्डिंग सार्वजानिक कर रहा हूँ। इसमें उसने ऑडियो फाइल देने से मना किया है क्योंकि ऑडियों फाइल में मेरे साथ हुई सही बात का पता चलता है और यह भी पता चलता है कि किस प्रकार बार-बार और टेड़े-मेढे प्रश्न पूछ कर एक निर्दोष व्यक्ति को इस टीवी चैनल द्वारा फंसाया जाता है। आज मेरी स्थिति बहुत खराब है। तीन दिनों से मेरी और मेरे परिवार की नींद उड़ी हुई है। इस बारे में मैंने पुलिस के एक सीनियर अफसर को भी जानकारी दे दी है। मुझे सबसे ज्यादा दुःख इस बात का है कि मै तो एक शिक्षित व्यक्ति हूँ जिसके पीछे एक मजबूत परिवार और कई मजबूत व्यक्ति खड़े हैं पर इन सबके अभाव में यदि किसी अन्य व्यक्ति को ऐसे फंसाया जाता है तो उसके और उसके परिवार पर क्या बीतती होगी? आप मेरी यह बात जन-मानस तक पहुंचाए और सरकार से यह अनुरोध है कि वह इण्डिया टीवी (जिस पर रजत शर्मा जी का आपकी अदालत कार्यक्रम आता है ) और टाईम्स ग्रुप (आज तक, इण्डिया टुडे, टाईम्स ऑफ़ इण्डिया, और नवभारत टाईम्स आदि कई मीडिया कंपनियों की कंपनी) पर निंयत्रण रखे ताकि वे इस प्रकार किसी को झूठे आरोपों में न फंसाए, गैर-क़ानूनी तरीके से बिना अनुमति के किसी के मोबाइल नंबर, बैंक एकाउंट की जानकारी पेशग न करे। - निखिल सबलानिया म. 8527533051 sablanian@gmail.com

Licence : All Rights Reserved


X