Experience YourListen.com completely ad free for only $1.99 a month. Upgrade your account today!

Upload Cover

Nikhil.sablania`s Uploads

  • Talk With Navbharat Times Journalist For Infringing Privacy On 26th May 2017 Navbharat Times, a major Hindi News paper in India published an article on its 15 number page (written by Manish Shrivastava) that Bhim Army (an organisation formed to stop atrocities on SC/ST/OBCs people in India, low caste Hindus) gets its donations through social sites and mobile wallet. They falsely gave name, mobile number and bank account details of Nikhil Sablania. It is only after many notices to the Newspaper and journalist that the journalist finally calls Nikhil and talk over the grievous issue. This is the audio of that talk.
    nikhil.sab... 00:12:27 51 0 Downloads 0 Comments
  • India Tv's Continual of Refusing Complete Audio File On 26th May 2017 Navbharat Times, a major Hindi News paper in India published an article on its 15 number page (written by Manish Shrivastava) that Bhim Army (an organisation formed to stop atrocities on SC/ST/OBCs people in India, low caste Hindus) gets its donations through social sites and mobile wallet. They falsely gave name, mobile number and bank account details of Nikhil Sablania. By this, they not only connected him to this organisation but also revealed his personal information without his permission, which is an illegal act. Based on this news Amit from 'India TV' (of Rajat Sharma's Aap ki Adalat), a major Hindi News channel in India took an audio interview of 7:25 minutes on 27/5/2017 at 2:51 PM. On the same day at 8 PM they broadcasted a program based on this voice interview. In that program, the TV channel edited and doctored the program in such a way so as again to show that Nikhil Sablania was somewhere connected to the organization and to worse they edited his talks cleverly so as to make him a wanted person in the eyes of law and spoil his reputation. Upset at this Nikhil called on the number on which he gave his voice intervew. But another man Abhishek talked on behalf of Amit and refused to give complete audio file. Nikhil send an email to the TV channel and they sent him link of the video which was uploaded on YouTube. To his surprise Nikhil found that this is again a tampered version of the original video that was broadcasted. The original video was of lesser length (of upto one minute) but this YouTube video was of around 1:30 minutes. In YouTube video the TV channel had cleverly removed those sections where they were trying to incriminate and defame Nikhil Sablania and made it softer but still trying to make him a wanted person. Upset at this Nikhil send them an email to provide the complete audio file of 7:25 minutes. The channel did not respond for more than one day and then Nikhil sent them another email for sending full audio file. At this the TV channel called him and again trying to befool him and refused to give full audio file of 7:25 minutes. The audio shared here is of this last conversation. Nikhil Sablania is open at this for anyone who wanted to talk on this matter. His M. +918527533051.
    nikhil.sab... 00:03:19 40 0 Downloads 0 Comments
  • Talks with ADG (L&O)/DGP HQRS (UP) Over False Publication On 30-5-2017, Nikhil Sablania talked to Mr. Aditya Mishra - ADG (L&O)/DGP HQRS of Uttar Pradesh Police over false publication and infringing his confidentiality (by Navbharat Times, Dainik Jagran, India TV and Sudarshan TV). The police officer has assured him that he would talk to the Special Task Force (STF) on this matter and that would be available in case of any police trouble. This whole talk is over falsely implicating Nikhil Sablania in the above mentioned newspapers and TV channels that Bhim Army collect funds to his account. His mobile number and bank account details were also made public without his permission, in a mala fide way, without his permission. Thus the media agencies infringed his privacy and connected him falsely with another organisation. Nikhil Sablania is open over this issue to talk to anyone. M. 8527533051.
    nikhil.sab... 00:03:44 60 0 Downloads 0 Comments
  • India TV Refuses to Provide Audio File to Nikhil Sablania India TV has refused to provide audio file to Nikhil Sablania on 29-5-2017. On 27-5-2017 India TV (of Rajat Shama's Apki Adalat program) showed a program where they falsely implicated Nikhil Sablania as a person in whose account Bhim Army collects funds. This was based on a telephonic interview on the same day. The telephone call was of 7:25 minutes. However the telecasted program was tampered and a whole program was not of even two minutes. Upset at this Nikhil Sablania called on the same phone and asked for the original audio file. The person Abhishek Kumar (associate of Amit, who called on behalf of India TV) refused to give audio tape with harsh words that they won't give even to the Prime Minister. On this Nikhil Sablania sent an email to the TV channel on 29-5-2017. The channel called him and again first refused to give the complete audio file and then said that they will discuss and then give the file. The audio shared is of this talk. They agreed to send the link of the video on YouTube. To his surprise, Nikhil Sablania found that the video which was uploaded on YouTube was again tampered to a longer duration than that of the broadcasted program for TV. The video the the same program was again tampered to show that Nikhil Sablania was somewhere connected to Bhim Army and collecting funds. To worse they have used such words in the program that Nikhil Sablania is at the radar of intelligence agencies . Thus again they have implicated him, defamed him, and violated his privacy rights by showing his mobile number and bank account details. Nikhil Sablania is open to this. This is his personal Mobile Number. 8527533051.
    nikhil.sab... 00:00:44 33 0 Downloads 0 Comments
  • Indian Media defames People in the Name of Bhim Army This is to bring in notice of all people that false news has been published on me by Hindi Newspaper ‘Navbharat Times’ (of Times group) on 26/5/2017. In an article written by Manish Shrivastava on Bhim Army, it was written that some person collect funds for Bhim Army by a mobile number. Now, that mobile number is mine, but not of the alleged person. Secondly, it is falsely written that the money goes to my bank account. To my surprise they have even published my name and all my bank details. Now, my position is that that I sell books of Dr. Ambedkar and Buddhism and T-shirts and I am doing this work of selling for the past 5-6 years, even when there was no Bhim Army. I have made appeal for funds for making video programs on Buddhism and Dr. Ambedkar even before there was no Bhim Army. So, after this article people keep calling me for joining Bhim Army and I had to explain everyone that this news is false. I called on the customer care number of Navbharat Times and they gave me number of Delhi office. For the past two days I kept calling on this number but it only shows busy. I sent mail to this journalist on the very same day but he has not replied so far. Even I have sent him another mail today for not responding. Next day, on 26/5/2017, I heard that this news has been telecasted on Aajtak (which also belongs to Times group to whom Navbharat Times belongs). Yesterday on 27/5/2017 a person named Amit called me on behalf of India TV (that shows Rajat Sharma’s Appki Adalat program) and talked to me over this false news. In a long talk of over seven minutes I told him clearly that I don’t belong to any organization. But he was trying to somehow connect me to Sharanpur case, Chandrashekhar Azad and Bhim Army. On the same day India TV telecasted a program on Saharanpur case at 8:00 PM. But to my surprise the audio was so tampered and edited to such an extent and that the journalist had put such clever words as his intention was trying to connect me to Bhim Army, Chandrashekhar Azad and to show that I collect funds for them. My family was really upset at this tampered program and mollified intention to defame me. This whole episode can also endanger my family. So today I called this same person from India TV and asked him to send the complete unedited audio file on my email. But he tried to befool me that that was the full recording. To this I told him that I am a film director. At this he baffled and said that he won’t give to anyone, even if the Prime Minister asks. Again, I requested him for the complete audio file, but he cuts the line. Now, apart from worries of my family, I am worried about innocent people who suffer from such mala fide publications and TV programs. I want people to share this and requests government to take action against India TV and Times group, so that such media companies don’t operate in such anti-social and ant-national way. – Nikhil Sablania. M. 8527533051. Link of my second talk to India TV person http://yourlisten.com/nikhil.sablania/india-tv-refuses-to-give-audio-file-after-defaming-a-person Link of false article by Navbharat Times http://epaper.navbharattimes.com/details/3425-60669-1.html
    nikhil.sab... 00:12:29 40 0 Downloads 0 Comments
  • India TV Refuses to Give Audio File After Defaming a Person मैं सबको यह सूचित करना चाहता हूँ कि कल 27/5/2017 को इंडिया टीवी पर आठ बजे आये कार्यक्रम में मेरी फोन की बात को तोड़-मरोड़ कर दिखाया गया। मेरी बात सात मिनट और पच्चीस सैकेंड (07:25 मिनट) तक हुई पर उसे कांट-छांट करके मेरे तीन-चार वाक्यों को तोड़-मरोड़ कर दिखा दिया गया। यह बात इस विषय पर थी कि 26/5/2017 को दिल्ली से प्रकाशित नवभारत टाईम्स के पंद्रह (15) नंबर पृष्ठ पर मेरे बारे में यह झूठी खबर, मनीष श्रीवास्तव नामक रिपोर्टर ने, प्रकाशित की कि भीम आर्मी के लिए चन्दा मेरे बैंक एकाउंट में आता है। मेरे ऊपर लगाए दोष को सिद्ध करने के लिए उसने गैर-कानूनी तरीके से मेरे बैंक एकाउंट के सारे विवरण और मेरा मोबाईल नंबर भी छाप दिया। मैंने उसी दिन मनीष श्रीवास्तव को ईमेल किया पर उसका आज तक कोई रिप्लाई नहीं आया। मैंने उसे आज भी एक मेल किया है और पूछा है कि उसने मेरे मेल का रिप्लाई क्यों नहीं दिया ? 26/5/2017 को ही मैंने नवभारत टाईम्स के कस्टमर केयर नंबर पर फोन किया और उन्होंने मुझे दिल्ली के ऑफिस का नंबर दिया। मैं दो दिनों तक दिल्ली के ऑफिस में फोन करता रहा पर वह नंबर व्यस्त ही रहा। मैंने इस बारे में अपने सगे-सम्बन्धियों और मित्रों को जानकारी दे दी। कल इंडिया टीवी से अमित नामक व्यक्ति का फोन आया। मैंने उससे लम्बी बातचीत में यह स्पष्ट बता दिया कि मैं भीम आर्मी से नहीं जुड़ा। पर वो बार-बार जबरदस्ती ऐसे सवाल पूछ कर मुझे तंग कर रहा था जैसे कि जबरदस्ती मुझे भीम आर्मी से जोड़ना चाहता हो। मैंने उसे स्पष्ट कर दिया था कि मेरे बैंक एकाउंड तो कई वर्षों से सार्वजानिक हैं पर वह केवल डॉ. भीमराव आंबेडकर जी की पुस्तकों और टीशर्टों की बिक्री के लिए है जैसे कि किसी और व्यापारी के होते हैं। रही बात चंदे की तो यह अपील तो भीम आर्मी के बनाने से भी पहले की है और यह अपील बौद्ध धम्म और बाबा साहिब डॉ. भीम राव आंबेडकर जी के विचारों पर वीडियों के निर्माण के लिए चन्दा लेने की है, क्योंकि मैं स्वयं एक फिल्म निर्माता हूँ , न कि भीम आर्मी के लिए। इसलिए मैंने उसे बताया कि मैं यह पुस्तकों का कार्य करता हूँ। पर उसने अपने छोटे से कार्यक्रम में कांट-छांट करके यह दिखा दिया की मैंने माना कि मैं चन्दा लेता हूँ, और यह कि मैं इस पर काम करता हूँ। किस लिए चंदे की अपील की यह नहीं बताया ? क्या काम करता हूँ यह भी नहीं बताया। हाँ उसने यह भी बताया की मैं किसी संगठन के साथ नहीं जुड़ा। पर उसने इस प्रकार बताया जैसे मानो कि शक की सुई मेरी और घूमे। मेरे मन में कोई चोर नहीं था इसलिए मैंने उसकी कोई रिकॉर्डिंग नहीं की। मेरे परिवार को इस पर बहुत दुःख हुआ। इस पर आज मैंने उसी नंबर पर फोन करा। फोन अभिषेक नामक व्यक्ति ने उठाया और उसने बताया कि अमित ने फोन किया था। मैंने उससे अपनी बातचीत की ऑडियों फाइल (फोन रिकार्डिंग वाली) मांगी और मेरे ईमेल पर भेजने को कहा। इस पर वो मुझे बेवकूफ बनाने लगा कि कैमरा रख कर रिकार्ड हुआ था जो कि उतना ही है जितना वीडियों में दिखा है। मैंने आगे उसे यह कहा कि मैं फिल्म डायरेक्टर हूँ ताकि वह यह समझ जाए कि मुझे बेवकूफ बनाने की कोशिश न करे क्योंकि जो काम वह कर रहा है मैं उसकी रग-रग से वाकिफ हूँ। इस पर वह बौखला गया और उसने मुझसे बदतमीजी से कहा कि वो ऑडियों फाइल नहीं देगा चाहे प्रधानमंत्री आ कर मांग ले। इससे आगे मैं उससे फिर से ऑडियो फाइल मांग रहा था पर उसने फोन काट दिया। मैं उस बात की ऑडियों रिकार्डिंग सार्वजानिक कर रहा हूँ। इसमें उसने ऑडियो फाइल देने से मना किया है क्योंकि ऑडियों फाइल में मेरे साथ हुई सही बात का पता चलता है और यह भी पता चलता है कि किस प्रकार बार-बार और टेड़े-मेढे प्रश्न पूछ कर एक निर्दोष व्यक्ति को इस टीवी चैनल द्वारा फंसाया जाता है। आज मेरी स्थिति बहुत खराब है। तीन दिनों से मेरी और मेरे परिवार की नींद उड़ी हुई है। इस बारे में मैंने पुलिस के एक सीनियर अफसर को भी जानकारी दे दी है। मुझे सबसे ज्यादा दुःख इस बात का है कि मै तो एक शिक्षित व्यक्ति हूँ जिसके पीछे एक मजबूत परिवार और कई मजबूत व्यक्ति खड़े हैं पर इन सबके अभाव में यदि किसी अन्य व्यक्ति को ऐसे फंसाया जाता है तो उसके और उसके परिवार पर क्या बीतती होगी? आप मेरी यह बात जन-मानस तक पहुंचाए और सरकार से यह अनुरोध है कि वह इण्डिया टीवी (जिस पर रजत शर्मा जी का आपकी अदालत कार्यक्रम आता है ) और टाईम्स ग्रुप (आज तक, इण्डिया टुडे, टाईम्स ऑफ़ इण्डिया, और नवभारत टाईम्स आदि कई मीडिया कंपनियों की कंपनी) पर निंयत्रण रखे ताकि वे इस प्रकार किसी को झूठे आरोपों में न फंसाए, गैर-क़ानूनी तरीके से बिना अनुमति के किसी के मोबाइल नंबर, बैंक एकाउंट की जानकारी पेशग न करे। - निखिल सबलानिया म. 8527533051 sablanian@gmail.com
    nikhil.sab... 00:01:46 174 0 Downloads 0 Comments
  • Who Were Untouchables in Hindi Part 1 by Dr BR Ambedkar
    Who Were Untouchables in Hindi Part 1 by Dr BR Ambedkar डॉ भीमराव आंबेडकर जी की पुस्तक - "अछूत कौन थे और वे अछूत कैसे बनें” को अब देखिए वीडियो 21 भागों में Presented by Nikhil Sablania
    nikhil.sab... 00:22:37 98 0 Downloads 0 Comments
  • डॉ भीमराव अम्बेडकर का सन्देश: व्यवसायी बने, आत्मनिर्भर बनें
    डॉ भीमराव अम्बेडकर का सन्देश: व्यवसायी बने, आत्मनिर्भर बनें डॉ अम्बेडकर ने कहा था कि मेरी दिलाई सुविधाएं आज हैं पर कल नहीं होंगी इसलिए स्वावलम्बी और आत्मनिर्भर बनने की जरुरत है। जब विदेश में डॉ अम्बेडकर अपनी पी एच डी की थीसिस लिख रहे थे तो उनके दिमाग में शायद भारत का वह शोषित और पिछड़ा समाज रहा होगा जो निर्धनता के कारण निम्नन साधनों से भी वंचित था। बाबा साहेब डॉ अम्बेडकर ने अपनी रिसर्च का विषय चुना 'भारत में रुपये की समस्या :इसका उद्भव और समाधान' और अपनी उस रिसर्च में भारत की मुद्रा (करेंसी) रूपये के विषय के साथ-साथ अर्थव्यवस्था और वाणिज्य पर भी बहुत गहराई से अध्यन्न करके उसे लेखनी के माध्यम से आनेवाली पीढ़ी के लिए सुरक्षित किया। अपने इस कार्य से बाबा साहिब आनेवाली पीढ़ियों को यह सन्देश देना चाहते थे कि उन्हें ज्यादा-से-ज्यादा वाणिज्य एवं मुद्रा ज्ञान का संग्रह करके स्वयं का आर्थिक विकास करना है जिससे कि वह अपना शोषण समाप्त कर सके। परन्तु यह बहुत दुखद बात है कि डॉ अम्बेडकर की इस हिदायत के देने के बावजूद, कि आज मेरे दिलाई सुविधाएं हैं पर कल नहीं होंगी, लोगों ने बाबा साहिब की इस बात को नजर अंदाज कर दिया। लोग भूल गए कि डॉ अम्बेडकर शोषित और पिछड़े समाज को नौकरी लेनेवाला नहीं बल्कि नौकरी देनेवाला बनाना चाहते थे। डॉ अम्बेडकर शुरू से ही चाहते थे कि गरीब, शोषित और पिछड़ा तबका व्यवसायी बने। भारत में ऐसे बहुत से सम्प्रदाय हैं जो अधिका-अधिक व्यवसायों से जुड़े हैं और अपनी आर्थिक शक्ति के होने के कारण, अपनी बहुत कम जनसंख्या होते हुए भी, अपनी आर्थिक शक्ति से एक मजबूत समाज है। असल में किसी भी देश का समाज तब एक मजबूत समाज बनता है जब वहाँ अधिाक-से-अधिक लोग व्यवसायी हों और कम-से-काम लोग वेतन भोगी हों। व्यवसाय वह कुंजी है जिसके माध्यम से मनुष्य अधिका-अधिक लोगों से जुड़ता है और उसके जुड़ने का माध्यम 'मुद्रा' और वह 'समान' या 'सेवा' होते हैं जिन्हे वह लोगों तक पहुंचता या पहुंचाती है। तो जितने अधिक लोगों से एक व्यवसायी जुड़ती या जुड़ता है उतना ही वह उनको समझता (समझती) है और उनको समझ कर जब वह अपना सामान या सेवा देता (देती) है तो उतनी ही मुद्रा बढ़ती है। इससे न सिर्फ व्यवसायी आर्थिक रूप से मजबूत बनता है बल्कि मानव का विकास भी होता है और सामान और सेवाओं को और अधिक विकसित (बेहतर) बनाने हेतु, वैज्ञानिकी और कला का विकास भी होता है। क्या डॉ अम्बेडकर का सन्देश केवल पिछड़े और शोषित समाज के लिए है? जी नहीं, ऐसे कतई भी नहीं है कि उनका सन्देश केवल कुछ वर्गों के लिए है। परन्तु हाँ यह बात जरूर है कि जितनी जरूररत पिछड़े और शोषित समाज को वाणिज्य और मुद्रा के ज्ञान की जानकारी की जरुरत है उतनी भारत में विकसित समूहों को नहीं है। जहाँ तक भारत से बाहर और विकसित देशों की बात है जहाँ प्रत्येक व्यक्ति वाणिज्य और मुद्रा की शिक्षा लेता है, उन देशों में ऐतिहासिक तौर पर जातिवादी जैसी कोई सामाजिक बुराई नहीं रही जिसकी वजह से केवल दो-चार समूहों को छोड़ कर शेष लोग शिक्षा और व्यवसायों से वंचित रहे हों। इसलिए वहाँ यह शिक्षा वर्षों से सबको मिलती आ रही है और सब ही लगभग शिक्षित है सो इस शिक्षा को आगे बढ़ा रहे है है और ज्यादा से ज्यादा इसकी गहराईयों में जा रहे हैं। परन्तु भारत में इसलिए यह शिक्षा आवश्यक हो जाती है की एक तो यहाँ एक बड़ा वंचित समाज है जो हर तरह से पिछड़ा और शोषण का शिकार है और दूसरा यह कि विकसित तबके की भी निरंतर जनसंख्या बढ़ने के कारण उसमें भी वंचित लोगों की संख्या बढ़ गई है सो उन्हें भी इस शिक्षा की बहुत जरुरत है। इसलिए भारत में वाणिज्य और मुद्रा की उस शिक्षा की बहुत आवश्यकता है जो कि हमें एक सफल व्यवसायी या निवेशक बना सके। मैंने इस कार्य को करने का जिम्मा अपने ऊपर लिया है। मैंने प्रण लिया है कि मैं जिस प्रकार सामाजिक अन्याय के खिलाफ डॉ अम्बेडकर की मुहीम को पिछले चार सालों से आगे बढ़ा रहा हूँ, उसी मुहीम को आगे बढ़ाते हुए अब मैं डॉ अम्बेडकर के उस विचार को भी आगे बढ़ाना चाहता हूँ जो उनके मस्तिक्ष में अपनी पी एच डी की थीसिस लिखते समय थे। मैंने चाहता हूँ कि हिंदी बोलनेवाली हमारी जनसंख्या, चाहे वह किसी भी जाती या धर्म से हो, जो भी आर्थिक रूप से कमजोर हैं मैं उन्हें वाणिज्य और मुद्रा की शिक्षा दे कर मजबूत बनाऊं। पिछले ढाई वर्षों से मैं इंटरनेट के माध्यम से यह शिक्षा ले रहा हूँ और अपने व्यवसाय को आगे बढ़ा कर आर्थिक रूप से स्वतन्त्र व सशक्त हो रहा हूँ और मैं यह इसलिए कर पाया कि मेरी इंग्लिश भाषा पर पकड़ अच्छी थी। परन्तु मैं जनता हूँ कि हमारे भारत में, और खासकर हिन्दीभाषी क्षेत्र में और उसमें भी दलित, पिछड़े और आदिवासी और अन्य गरीब लोगों में इंग्लिश की पकड़ उतनी नहीं है। सो इसके लिए मैंने हिंदी में वाणिज्य और मुद्रा की वह पुस्तकें उपलब्ध कराने का निश्चय किया है जिन्हें मैं पढ़ चुका हूँ और उनसे शिक्षा प्राप्त करके एक सफल व्यवसायी बन चुका हूँ। अब मैं चाहता हूँ कि आप भी उस शिक्षा का लाभ उठाएं। पुस्तकों की कीमत देखते हुए यह संशय या संकोच मन में न पालें कि कीमत ज्यादा है। अगर आर्थिक विकास का ज्ञान चंद रुपयों में मिल जाए और आपकी और आपके आनेवाली पीढ़ी की जिंदगियां संवर जाए तो उस ज्ञान को प्राप्त करने की कीमत देने में कंजूसी करना मूर्खता होगी। मैं भी तो पहले पुस्तकें खरीद कर उन्हें आगे बेच रहा हूँ और यह रिस्क उठा रहा हूँ। मैंने अपना समय पहले इंग्लिश सीखने में दिया और फिर पुस्तकें पढ़ने और व्यवसाय में। मुझे तो सफलता ही मिली है। अब मेरा यह ज्ञान और डॉ अम्बेडकर का सपना मैं सब तक ले जाना चाहताा हूँ। आप यह ध्यान रखें कि मैं हिन्दीभाषी क्षेत्र में वह पहला व्यक्ति हूँ जो यह कदम उठा रहा है कि आप तक यह शिक्षा पहुंचा रहा है। यह पुस्तकें वैसे तो हिंदी भाषा में वर्षों से प्रकाशित हो चुकी है परन्तु लोगों को इनकी और इनके भीतर लिखे ज्ञान की जानकारी मैं इस प्रकार पहली बार दे रहा हूँ। आप अधिक-से-अधिक इन्हें खरीदें और स्वयं पढ़ने के साथ-साथ मित्रों को भी इन्हें भेंट करें। इससे एक तो आप और आपके साथ के लोग इस शिक्षा से विकसित होंगे और साथ-ही-साथ मेरा व्यापार बढ़ने से मैं और भी ऐसे लोगों तक इस शिक्षा को पहुंचाउंगा जिन तक इंटरनेट नहीं पहुँच पाता या जो पुस्तकें नहीं खरीद पाते। पर वह सब तब ही हो पाएगा जब आप एक बार यह पुस्तकें खरीदेंगे। पुस्तकें मुझ से ही से खरीदे क्योंकि मैं ही इस मुहीम को शुरू कर रहा हूँ और इस मुहीम के आर्थिक लाभ का सही हकदार हूँ। दूसरे विक्रेताओं के लिए यह पुस्तकें मात्र हैं परन्तु मेरी लिए लोगों की जिंदगियां संवारने का माध्यम और मेरे जीवन का एक ध्येय। तो आज ही पुस्तकें सीधे हमारे वेबसाईट पर जा कर आर्डर करें। पेमेंट आप ऑनलाईन बैंकिंग, डेबिट कार्ड अथवा क्रेडिट कार्ड से भी कर सकते हैं। अथवा बैंक में रूपये जमा करवाने के लिए इस नंबर पर फोन करे - 8527533051. हम पुस्तकें भारत में कहीं भी डाक द्वारा भेज देंगे। तो इस मुहीम का हिस्सा बनिए और डॉ अम्बेडकर की सोच को आगे बढ़ाने और भारत को एक स्वावलम्बी और स्वतन्त्र भारत बनाने के लिए ज्यादा-से-ज्यादा यह पुस्तकें लोगों को भेंट करें। आज के दौर में आर्थिक निर्भरता गुलामी से भी बदतर है। आर्थिक स्वतंत्रता केवल और केवल व्यवसाय और निवेश देता है। एक व्यवसायी बनाना कोई मुश्किल नहीं है। भारत में ही सर पर टोकरा रख कर सामान बेचने वाले या पेट्रोल पम्प पर काम करने वाले बड़े-बड़े व्यवसायी और निवेशक बन गए है। जरुरी नहीं है कि आपके पास कोई पैतृक खजाना हो। अमरीका में सड़क पर सब्जी बेचनेवाला आज अमरीका के सबसे बड़े खाने के स्टोर्स का मालिक है। तो अब आप ज्यादा इन्तजार नहीं करिए और तुरंत इन पुस्तकों को खरीद कर पढ़ डालिए। व्यवसाय एवं निवेश सीखने वाली पुस्तकें आप फोन करके आर्डर करें म. 8527533051 (WhatsApp), L. 011-23744243, alternative number: 7065805901 (Rs 2000, 7 Books).
    nikhil.sab... 00:13:47 523 0 Downloads 0 Comments
  • Bharat ki Media ka Jativaad भारत की मीडिया का जातिवाद
    Bharat ki Media ka Jativaad भारत की मीडिया का जातिवाद जातिवाद है और इसे कायम रखना है यह कहने की जरुरत नहीं है बल्कि यह भारत की मीडिया का राष्ट्रगान है। आप में से बहुत से लोग वर्षों से मीडिया में यह देख, सुन या पढ़ रहे होंगे कि फलां-फलां राजनैतिक दल ने फलां-फलां व्यक्ति को ऊंचा पद जैसे मुख्यमंत्री का पद दिया है और वह व्यक्ति दलित, आदिवासी या पिछड़े (O.B.C.) वर्ग से है। इस पर मीडिया जीतोड़ मेहनत करके इस बात का प्रचार करने में लगती है कि ऐसा इसलिए किया जाता है जिससे कि उस वर्ग के वोट पा लिये जाएं। परन्तु सत्य यह भी है कि दलित, आदिवासी या पिछड़े समाज के व्यक्तियों को उच्च पद देना तो हाल-फिलहाल में ही शुरू हुआ है। इससे पहले कांग्रेस ने जब ऐसा किया था तब उसका मकसद डॉ भीमराव अम्बेडकर और बाद के उनके अनुयाईयों द्वारा चलाई जा रही पार्टियों को तोड़ना। पर यही बात मीडिया क्यों नहीं कहता था जब किसी ब्राह्मण, खत्री (क्षत्रिय) या बनिए को उच्च पद दिया गया। जब इन वर्गों के किसी व्यक्ति को उच्च पद मिले तो उसे कभी रब्बड़ स्टैम्प नहीं माना गया या उस व्यक्ति की काबलियत पर कभी प्रश्नचिन्ह वर्गीकृत राजनीति से प्रेरित होने का नहीं लगा। परन्तु जब वही संस्था किसी दलित, आदिवासी या पिछड़े को पद देती है तो उसे रब्बड़ स्टैम्प माना जाता है। आज क्या किसी भी संस्थान को चलाना दलित, आदिवासी, या पिछड़े वर्ग की जनसंख्या के बिना हो सकता है? राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आर.एस.एस.) हो, बजरंग दल हो, कांग्रेस हो या भारतीय जनता पार्टी या कम्युनिस्ट एवं अन्य क्षेत्रवादी पार्टियां और अब आम आदमी पार्टी, इन सभी संस्थानों में दलित, आदिवासी और पिछड़े वर्ग के लोग बहुत मात्रा में कार्यकर्ता की भूमिका निभाते हैं। परन्तु बहुत मुश्किल से इन वर्गों के लोगों को कोई पद इन जैसी संस्थानों में मिलता है। और यदि मिलता भी है तो मीडिया उसे रब्बड़ स्टैम्प या वोटरों को रिझाने के लिए ऐसा किया गया 'स्टंट' कह कर दुष्प्रचार करने लगती है। आखिर मीडिया के इस दुष्प्रचार का अर्थ क्या है? इस प्रकार किया गया प्रचार भारत की मीडिया की जातिवादी मानसिकता सिद्ध करता है। एक तरफ तो उस व्यक्ति पर निशाना साधा जाता है जो कि उच्च पद पर बैठाया गया और दूसरे उस संस्थान को भी यह सचेत कर दिया जाता है कि यदि उसने उस व्यक्ति पर नियंत्रण नहीं रखा तो उस संस्थान को भी मीडिया नहीं बख्शेगी। यह "नियंत्रण" क्या है जो मीडिया चाहती है? यह नियंत्रण है कि दलित, आदिवासी या पिछड़े समाज के व्यक्ति पर यह नियंत्रण रखा जाए कि कहीं वह अपने वर्गों के लोगों के उत्थान के कार्य तो नहीं करने लगे। अर्थात, व्यक्ति भले ही निम्नन वर्ग से हो, पर करे वह वही जो उसे पद पर बिठानेवाली संस्थान चाहती है। अर्थात ऊँचे वर्गवालों या कहें कि ऊँची जाती वालों के मुद्दों को ही देखा जाए और निम्नन वर्गों या कहें निचली जाती के मुद्दों को दरकिनार कर दिया जाए। अर्थात भारत की जातिवादी व्यवस्था को ज्यों-का-त्यों रखा जाए। और जातिवादी व्यवस्था को स्थिर रखती है भारत की मीडिया। मीडिया अर्थात टीवी, अखबार, रेडियो आदि। तो इस प्रकार जातिवाद को न सिर्फ मीडिया द्वारा जीवित ही रखा जाता है बल्कि मीडिया उसे और खाद और पानी भी देती है और साथ ही उसे सुरक्षित भी रखती है। कोई दो राय नहीं कि भारत में मीडिया भी इन्हीं वर्गों के लोगों द्वारा चलाई जा रही हैं इसलिए उनकी भाषा से लेकर उनके द्वारा तैयार किए गए कार्यक्रम या लेख तब, सब ही जातिवादी मानसिकता से तैयार होते हैं। मीडिया में काम करनेवाले भी उन्हीं घरों से आते हैं जहाँ जाती देख कर रिश्ते तय होते हैं और जो हज़ारों सालों से जातिगत तौर पर बिखरे पड़े है। उन घरों के बच्चे इससे पहले कि स्कूल जाएं जातिवाद की शिक्षा ले लेतेे हैं, और वह जाते भी अधिकांश्तर उन्हीं स्कूलों में हैं जहाँ उन्हीं के वर्गों के अधिकांश्तर बच्चे आते हैं या जो उन्हीं के वर्गों के लोगों द्वारा चलाए जा रहे हैं। और यहाँ तक कि सरकारी स्कूलों में पढ़ाने का और सरकारी स्कूलों का पाठ्यक्रम तैयार करने से लेकर शिक्षा की नीति तैयार करने तक के अधिकांश्तर कार्य इन्हीं जातिवादी मानसिकता से विकृत वर्गों द्वारा किए जाते हैं। और फिर आगे कालेज की शिक्षा हो या नौकरियाँ, हर संस्थान ऐसे ही लोगों से भरी है और मीडिया भी इससे अछूती नहीं है। सो भारत की मीडिया इस प्रकार जातिवाद को न केवल ज़िंदा ही रखती है बल्कि लोगों को इसका एहसास भी नहीं होता। जातिवाद है और इसे कायम रखना है यह कहने की जरुरत नहीं है बल्कि यह भारत की मीडिया का राष्ट्रगान है। - निखिल सबलानिया बाबा साहिब डॉ अम्बेडकर की लेखनी पर पुस्तकें मात्र रु 2000 में भारत में कहीं भी डाक द्वारा प्राप्त करें। फोन करें: 8527533051. भारत के पिछड़े वर्ग (O.B.C.) पर 25 विशेष पुस्तकों का सैट नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑर्डर करें या फोन करें (M. 8527533051)। पुस्तकों की सूची नीचे देखें 1. जोतीराव फूले का सामाजिक दर्शन। 2. जगदेव प्रसाद वांग्मय। 3.ललई सिंह यादव : दलित और पिछड़ों का मसीहा। 4. मेरे जीवन के कुछ अनुभव : संतराम बी. ए.। 5. दलित बनाम पिछड़ा वर्ग। 6. अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और डॉ भीमराव अम्बेडकर। 7. ओबीसी साहित्य विमर्श। 8. गुलामगिरी। 9. किसान का कोड़ा। 10. पेरियार रामास्वामी नायकर जीवन दर्शन। 11. दाम बांधो या गद्दी छोड़ो। 12. ब्राह्मणवाद से हर कदम पर लड़ो। 13. जाट जाती प्रच्छन्न बौद्ध है। 14. समाजवाद बनाम पिछड़ा वर्ग। 15. योग्यता मेरी जूती। 16. बहुजन विरोधी भारतीय राजनीती का काला इतिहास। 17. तेली समाज इतिहास और संस्कृति। 18. शूद्रों की खोज। 19. भारत के मूल निवासी और आर्य आक्रमण। 20. भारतीय मूल के प्राचीन गौरव महाराजा बलि और उनका वंश। 21. तमिलनाडु के सन्दर्भ में अयोत्ति तासर और बौद्ध पुनर्जागरण। 22. छत्रपति शाहूजी सचित्र जीवनी। 23. शिवजी कौन थे? 24. प्रथम शूद्र चक्रवर्ती सम्राट महापदम नन्द। 25. महान सम्राट अशोक।
    nikhil.sab... 00:06:59 1.25 K 0 Downloads 0 Comments
  • ग्रामीण छात्र को भाया डॉ भीमराव अम्बेडकर का सन्देश
    ग्रामीण छात्र को भाया डॉ भीमराव अम्बेडकर का सन्देश मुझे यह बताते हुए बहुत ख़ुशी हो रही है कि कल रांची के आदिवासी क्षेत्र के एक छात्र ने हमारी व्यवसाय और निवेश की शिक्षा देने वाली सात पुस्तकों का सैट खरीदा। जो बात खुश करनेवाली है वह यह है कि उन्होंने डॉ भीमराव अम्बेडकर के उस सन्देश पर चलते हुए हमारी यह पुस्तकें खरीदी जिसमें कि डॉ अम्बेडकर ने कहा था कि मेरी दिलाई सुविधाएं आज हैं पर कल नहीं होंगी, इसके लिए हमें आत्मनिर्भर बनाने की जरुरत है। रांची के छात्र ने जब हमें फोन किया तो यह कहा कि वह डॉ अम्बेडकर की इस सोच पर चलना चाहते हैं। वह नौकरी के सहारे मुहताज न रह कर व्यवसायी बनाना चाहते हैं। वह चाहते हैं कि वह अपने पैरों पर खड़े हों जिससे कि अपने परिवार और समाज को भी कुछ दे सकें। जब उन्होंने पहली बार मुझे फोन किया तो उनके पास पुस्तकों को खरीदने के पूरे पैसे भी नहीं थे। पर एक हफ्ते में उन्होंने और रूपये जोड़े और पुस्तकें खरीद लीं। उनकी यह सोच प्रशंसनीय है। इस सोच से न केवल उन्होंने मेरा ही उत्साहवर्धन किया बल्कि मुझे विशवास है कि वह एक दिन सफल व्यवसायी और फिर निवेशक भी जरूर बनेंगे। आनेवाले समय में मैं जिस तरह भी हो सका उनका मार्गदर्शन करता रहूंगा। प्रिय मित्रों, आपमें से बहुत से लोग डॉ अम्बेडकर पुस्तकालय, बौद्ध फेडरेशन आदि कुछ-न-कुछ संस्था चलाते हैं। यदि आप अपनी संस्थान के लोगों तक भी यह विचार पहुंचाएं कि अब हमें आगे बढ़ते हुए केवल नौकरियाँ ही नहीं बल्कि व्यवसाय और निवेश की तरफ भी अपना रुख लेना चाहिए और डॉ अम्बेडकर के उस विचार को आगे बढ़ाना चाहिए जिसमें उन्होंने कहा था कि मेरी दिलाई सुविधाएं आज हैं पर कल नहीं होंगी और हमें आनेवाले समय के लिए आत्मनिर्भर बनना होगा, तो इससे समाज को एक नई राह मिलेगी। भारत में एक तरफ तो एक-दो प्रतिशत की जनसंख्या वाले ऐसे समुदाय जो व्यवसायों से जुड़े हैं वह आर्थिक रूप से इतने मजबूत हैं कि देश की सत्ता बदलने का दम-ख़म रखते हैं। और फिर दूसरी तरफ दलित, आदिवासी और पिछड़ा समाज है जो कि अपनी विशाल जनसंख्या होने पर भी आर्थिक रूप से पिछड़ा है। इसलिए जरूरत है आर्थिक रूप से उठने की। आर्थिक रूप से हम तब ही उठ सकते हैं जब तक कि हम व्यवसाय और निवेश में अपने पैर न जमा लें। यह सच है कि हमारे पास न केवल धन की ही कमी है, बल्कि हमारे पास व्यवसाय और निवेश की कोई शिक्षा भी नहीं है। पिछले सत्तर सालों में हमारे पूर्वजों ने नौकरी को ही रोजी-रोटी का साधन बनाया और व्यवसाय व निवेश से और दूर हो गए। व्यवसाय और निवेश की शिक्षा के अभाव में जब हम इन क्षेत्रों में कदम रखते हैं तो अनुभवहीनता और व्यवसाय और निवेश की शिक्षा न होने के कारण असफल हो जाते हैं। अकसर यह कहा जाता है कि पैसे से ही पैसा बनता है। परन्तु यह बात पूरी तरह सही नहीं है। पैसा शिक्षा से भी बनता है। यदि किसी को वयवसाय और निवेश की सही शिक्षा मिल जाती है तो उसके प्रयास सही और सटीक होते हैं। ऐसे में उसे वह अनुभव प्राप्त होता है जो कि उसे आगे भी सफल बनाता है। व्यवसाय और निवेश की शिक्षा के अभाव में उसके प्रयास निरंतर असफल होते हैं और वह ऐसे अनुभव पाता है जिससे उसे निराशा हाथ लगती है। इसलिए अक्सर लोग वयवसाय में हाथ डालने से कतराते हैं या निवेश में असफल हो जाते हैं। परन्तु हमने यह प्रण उठाया है कि हम आपको सही शिक्षा और मार्ग दें। हमने जो सात पुस्तकें आपके लिए चुनी हैं उनका मैं खुद दो सालों से अध्यन्न कर चुका हूँ और उनकी शिक्षा न केवल अपने काम धंधों में ही लगाता हूँ बल्कि और लोगों को भी आज व्यवसाय और निवेश सम्बन्धी शिक्षा देता हूँ। यह सात पुस्तकें अमरीका के उन लेखकों द्वारा लिखी गई हैं जो न केवल लेखक ही हैं बल्कि सफल व्यवसायी और अरबपति दौलतमंद भी हैं। यह सात पुस्तकें न्यूयार्क में सर्वाधिक बिकनेवाली पुस्तकों की श्रेणी (न्यूयार्क बेस्ट सेलर्स) में रह चुकी हैं। इनके प्रमुख लेखक का इस साल दिल्ली और बेंगलोर में सेमीनार था जिसमें पांच हजार रूपये की फीस देकर बहुत से लोगों ने यह शिक्षा ग्रहण की। मैंने भी ऐसे सेमीनार रखने का निश्चय किया है जिससे कि मैं आपसे रूबरू हो कर और अच्छे से यह शिक्षा दे सकूं और अपने अनुभव बता सकूं। सेमीनार के लिए आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं। परन्तु तब तक आप यदि हमारी सात पुस्तकों का अध्यन्न कर लें तो आपको व्यवसाय और निवेश की शिक्षा आसानी से मिल जाएगी और आप जब भी कोई व्यवसाय या निवेश करेंगे तो यह शिक्षा पाने से आपके ज्ञान के चक्षु कुछ इस प्रकार खुल जाएंगे कि आप न केवल हार ही न मानेंगे बल्कि सफल भी रहेंगे। हमारी सात पुस्तकें सरल हिंदी में लिखी हैं। आप न केवल इन्हें स्वयं ही पढ़ सकते हैं बल्कि उपहार के रूप में किसी को भेंट भी कर सकते हैं। किसी भी उम्र के कोई भी हो, सभी के लिए यह पुस्तकें हैं। व्यवसाय चाहे करें या न करें निवेश तो आपको किसी न किसी रूप में एक दिन करना ही पड़ेगा। कोई प्रॉपर्टी खरीदनी हो, किसी बैंक की स्कीम में रूपये लगाने हों या और किसी भी रूप में कैसे अपने रूपये को लगाना है या नहीं लगाना है, इसका निर्णय तो आपको कई बार लेना ही पड़ेगा। इसके लिए जरूरी है कि आप व्यवसाय और निवेश की शिक्षा पहले से ले लें। आपको यदि डॉ अम्बेडकर के विचार और कार्यों को आगे बढ़ाना हैं तो आपको एक-न-एक दिन आत्मनिर्भर बनना पड़ेगा। आप यदि बाबा साहिब अम्बेडकर के सच्चे अनुयायी हैं तो आपको एक-न-एक दिन नौकरी लेनेवाला नहीं बल्कि नौकरी देनेवाला बनाना पड़ेगा। जब भारत सरकार ने एक समुदाय के किसी भवन को क्षति पहुंचाई और फिर यह पेशकश रखी कि वह सरकारी खर्चे से क्षतिग्रस्त भवन को ठीक करवा देंगे तो उस समुदाय के लोगों ने सरकार की पेशकश ठुकरा दी और स्वयं ही अपने भवन को न केवल ठीक ही किया बल्कि और भवनों का भी निर्माण खुद के रुपयों से किया। ऐसा वे इसलिए कर पाए क्योंकि उस समुदाय के अधिकांश्तर लोग व्यवसाय और निवेश से जुड़े हैं। ऐसे ही आज आपको दलित, आदिवासी और पिछड़े समाज को अग्रसर करना है। आपको डॉ अम्बेडकर का कार्य पूरा करना है कि समाज को आगे बढ़ाना है। आपके पास ज्यादा समय नहीं है। आप भूल जाइए कि नौकरी जैसी कोई चीज़ है। आप निश्चय करें कि आप भी एक दिन अम्बानी या टाटा की तरह बड़े व्यवसायी और निवेशक बनेंगे। इस निश्चय के साथ कार्य करिए। आप सौ प्रतिशत नहीं तो पचास प्रतिशत तो सफल जरूर होंगे। उतनी सफलता भी एक बहुत बड़ी सफलता होगी। इसी के साथ मैं अपना यह लेख यहीं रोकता हूँ और यह आशा करता हूँ कि आप न केवल यह पुस्तकें खरीद कर पढ़ेंगे और भेंट करेंगे बल्कि डॉ अम्बेडकर का यह सन्देश भी आगे बढ़ांएगे कि अब आपको आत्मनिर्भर बनना है। आपको पानी के बुलबुले नहीं बल्कि सुनामी की लहर बनना है। वह लहर जो शक्तिशाली होती है। वह लहर जिसके आगे कोई नहीं टिक पाता। आपको अपने निश्चय और कार्य में ऐसी लहर बनना है जो कि मजबूत हो और विशाल हो। तो बढ़िए आगे और व्यवसाय और निवेश की शिक्षा लेकर आप खुद को एक ऐसी ही सुनामी की लहर बनाईए। - जय भीम। - निखिल सबलानिया व्यवसाय एवं निवेश सीखने वाली पुस्तकें खरीदने के लिए फोन करें म. 8527533051. 7065805901, 011-23744243 (Rs 2000, 7 Books).
    nikhil.sab... 00:10:28 1.26 K 0 Downloads 0 Comments
  • show more
nikhil.sablania
  • nikhil.sablania
  • profile viewed 2208 times
  • message share profile
Who to Follow
X