Experience YourListen.com completely ad free for only $4 a month. Upgrade your account today!

Kahi Baar Yu Hi Dekha Hai Anand

Embed Code (recommended way)
Embed Code (Iframe alternative)
Please login or signup to use this feature.

कई बार यूँ भी देखा है
ये जो मन की सीमा रेखा है, मन तोड़ने लगता है
अनजानी प्यास के पीछे, अनजानी आस के पीछे, मन दौड़ने लगता है

राहों में, राहों में, जीवन की राहों में
जो खिले हैं फूल, फूल मुस्कुरा के
कौन सा फूल चुरा के, रखूँ मन में सज़ा के

जानू ना, जानू ना, उलझन ये जानू ना
सुलझाऊ कैसे कुछ समझ ना पाऊं
किस को मीत बनाऊ, किस की प्रीत भुलाऊं

ki baar yooan bhee dekhaa hai
ye jo man kee seemaa rekhaa hai, man todne lagataa hai
anajaanee pyaas ke peechhe, anajaanee aas ke peechhe, man daudne lagataa hai

raahon men, raahon men, jeewan kee raahon men
jo khile hain fool, fool muskuraa ke
kaun saa fool churaa ke, rakhooan man men sajaa ke

jaanoo naa, jaanoo naa, ulajhan ye jaanoo naa
sulajhaaoo kaise kuchh samajh naa paaoon
kis ko meet banaaoo, kis kee preet bhulaaoon

Licence : All Rights Reserved


Similar Music and Audio

X